परिपूर्ण जीवन का मतलब
    एक बार मेरे मन में विचार आया कि में पुरे जीवन का लेखा-जोखा लुॅ और उन तमाम चीजों की सूची बनाऊ जो जीवन परिपूर्णता से भर देते हैं मेने फिर अपनी सूची में उत्तम स्वास्थ्यों, प्रेम, ऐश्वर्य कला, ज्ञान, भक्ति और अनेक चीजों के बारें में लिखा ऐसा करने के बाद ये महसुस हुआ कि मैं बहुत ज्ञानी हॅू। अपने ज्ञान को प्रदर्शन करने के लिए मेने इस सुची को एक बुजुर्ग को दिखाया ताकि वो समझ कि मेरा जीवन के बारे में कितने प्रोढ़ विचार हैं। सूची पढ़ कर बुजुर्ग मुस्कुरायें फिर बोलें बेटा तुमने लिखा तो सही है लेकिन एक चीज भुल गये उसके बिना ये सारी चीजें अर्थहीन खोखली है। मेने पुछा वो क्या, तो उन्होने कहा - मन की शान्ति।

............संतोष बोन्दिया